Bihar Cricket Association

 

Notification


सभी जिला संघो के सम्मानित सचिवों के सूचनार्थ ...... सन्दर्भ ....कोरोना महामारी के इस दौर में बिहार क्रिकेट और बिहार के क्रिकेटरों के हितों को ध्यान में रख कर किये जाने योग्य प्रयासो के सम्बन्ध में
सेवा में सभी जिला संघो के सम्मानित सचिवों के सूचनार्थ विषय : कोरोना महामारी के इस दौर में बिहार क्रिकेट और बिहार के क्रिकेटरों के हितों को ध्यान में रख कर किये जाने योग्य प्रयासो के सम्बन्ध में महोदय जैसा की सर्वसूचित है की सूबा बिहार हीं नहीं वरन पूरा देश और सम्पूर्ण विश्व कोरोना महामारी का दंश को झेल रहा है और जो स्थितियां सूचित हो रहीं है या हम सब आस पास में देख रहे है उससे यह स्पष्ट है की इस विषम परिस्थिति से पूर्ण रूप से उबरने में काफी वक्त लगेगा. सरकारी सूत्रों की माने तो लॉक डाउन की स्थिति भी झटके में सामान्य नहीं होनी है, इस लॉक डाउन से हम सबको चरणबद्ध तरीके से हीं निबटना है. इन परिस्थितियों के बीच भी हम सबको यह भी विचार करना होगा की आगामी समय में हम बिहार क्रिकेट और बिहार के क्रिकेटरों के लिए क्या कर सकते है ? चूँकि गर्मी भी चरम की ओर होने का संकेत दे रहा है तथा फरवरी और मार्च में मिले घरेलू क्रिकेट संचालन के लिए मिले सुरक्षित समय को गंवाया जा चूका है. क्यों और कैसे इसका जवाब भी कमोबेश आप सब जानते है, तथा विस्तार से इस पर भविष्य में स्वत: आपको जानकारी मिल जाएगी. जैसा की आप सब जानते हैं की हाल में समाप्त हुए बीसीसीआई के टूर्नामेंटों के बाद कई महिला और पुरुष खिलाडियों ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी दावेदारी प्रस्तुत की है तो हाल में चल रहे जिलों के लीग मैचों में कई खिलाडियों ने राज्य स्तरीय टीम में आने की अपनी दावेदारी मजबूत की है, यह हम सबों की जिम्मेवारी है की इन खिलाडियों का मनोबल कायम रहे, परिस्थितियां चाहे जो भी हो , अवसर जितने भी मिले उसका सदुपयोग कर इन खिलाडियों के प्रतिभा को विकसित करना हीं हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए. जैसा की हम सब जानते हैं की वैश्विक महामारी कोरोना के कारण विश्व में क्रिकेट की गतिविधि समाप्त हो चुकी है, लेकिन क्रिकेट और क्रिकेटरों के लिए इस स्थिति के सामान्य होते हीं दिशा निर्देश जारी होंगे, जिसका पालन हम सबको करना होगा. लेकिन एक बात जो आप सबों को सूचित हो की मैदान तथा बीसीए को बीसीसीआई से प्राप्त करोडो के उपकरण (मशीनों) के रख रखाव तथा खिलाडियों के लिए कुछ निर्णय मैंने लिया है जो निम्न है : 1. मोइनुल हक़ स्टेडियम और वहां पड़े मशीनों की स्थिति काफी ख़राब हो रही है, अत: मैंने बीसीए के ग्राउंड क्यूरेटर देवी शंकर को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मैदान को सही स्थिति में लाने का निर्देश दिया है, तथा वहां पड़े मशीनों को सही करने और उनकी स्थिति का आकलन कर जो भी पार्ट ख़राब हो गए है उसे बदलने और सभी मशीनों को चलंत अवस्था में लाने हेतु समुचित प्रक्रिया प्रारंभ करने का निर्देश भी दिया है. 2. सत्र 2019-20 में बिहार की ओर से बीसीसीआई के मैचों में भाग लेने वाले खिलाडियों के इनवाइस बनाने की प्रक्रिया प्रारंभ करने के लिए बीसीए के अधिकारी ए के चन्दन को निर्देशित किया है, ताकि खिलाडियों का भुगतान बीसीसीआई से हो सके. यहां यह संज्ञान में लाना आवश्यक है की कई राज्यों के खिलाडियों का पूर्ण तो कई राज्यों के खिलाडियों का आंशिक भुगतान हो चूका है, मगर हमारे राज्य से अब तक इनवाइस भी बीसीसीआई को भेजा नहीं गया है, इसलिए मुझे यह निर्देश देना पड़ा. करोना की पीड़ा में आंशिक सुधार होते हीं सभी जिलों में गतिविधि प्रारंभ की जाएगी, इसलिए यह आवश्यक है की इस लॉक डाउन के पीरियड या उसके बाद जब तक खेल की गति विधि प्रारंभ करने का दिशा निर्देश बीसीसीआई से नहीं प्राप्त होता है , तब तक हम लोग पटना सहित सभी जिलों में उपलब्ध मैदान को खेलने / कैम्प के योग्य बनाने का कार्य कर लें. जहां भी टर्फ विकेट उपलब्ध है वहां जरूरत और उक्त जिले के मांग पर बीसीए के प्रशिक्षित क्यूरेटर को भेजा जा सकता है. वर्तमान स्थिति में कुछ भी सुधार होता है और हम लोग के मिलने की स्थिति बनती है तो हम सभी जिला के सम्मानित सचिवों के साथ एक बैठक कर खेल के आगामी योजना पर भी चर्चा करेंगे. वर्त्तमान में बिहार क्रिकेट में जो भी लोग जिला स्तर या राज्य स्तर पर पदाधिकारी के रूप में जुड़े है या फिर जो वर्तमान में किसी पद पर नहीं हैं, लेकिन जिनके मेहनत और समर्पण के कारण आज बिहार में क्रिकेट जीवंत अवस्था में है, उसमें से अधिकांश लोगों ने क्रिकेट को मिशन मोड में लेकर में वारियर्स की तरह कार्य किया है और अन्य लोगों को जोड़कर करवाया भी है. वर्तमान की कोई भी गतिविधि पूर्व और वर्तमान व्यवस्था के द्वारा किये- कराये सभी अच्छे प्रयासों पर पानी न फेर दे इस पर भी ध्यान देना है. क्योकि एक समय में बिहार क्रिकेट को जीवित रखने में आप सबों ने अपना सब कुछ दाव पर लगा दिया था. यह सम्पूर्ण व्यवस्था हम और आप सबों के द्वारा बिहार के क्रिकेटरों के लिए किया जा रहा है, जिसमे आप सबों का साथ और सुझाव अपेक्षित है. ताकि कोरोना के बाद हम सब क्रिकेट के जंग में भी अपेक्षित सफलता प्राप्त कर सकें. धन्यवाद भवदीय संजय कुमार सचिव बिहार क्रिकेट एसोसिएशन पटना, बिहार नोट: मोईनुल हक स्टेडियम की वर्तमान हालत की तस्वीर अटैच की जा रही है। देखने के लिए डाउनलोड करें

CLICK HERE TO DOWNLOAD FILE
Posted on : ( 25-04-2020 )